समस्या धर्म को न समझना ही है


स्त्री अधिकार संगठन की अंजलि सिन्हा जी ने जोगिनियों…..की राह”.नामक लेख में देवदासी प्रथा वाली जोगिनियों की समस्या को उठाया है और उसे धर्म के साथ जोड़ा है..उन्होंने लिखा है’’हिन्दू धर्म कि परम्पराओं के अनुसार देवदासियों का विवाह हो चुका होता हैऔर वे मंदिर में उनकी सेवा तथा नाचने गाने का काम करती हैं.’’सच तो यह है कि हिन्दू कोई धर्म नहीं है,भारत में इरानी हमलावरों के आने के बाद यह शब्द सामने आया जो उस देश की भाषा फ़ारसी का है.इस शब्द के मतलब बहुत गंदे हैं जो फ़ारसी भाषा की dictionary से समझे जा सकते हैं.विदेशी हमलावरों ने नफरत के तौर पर भारतियों को हिन्दू कहा था जिसे लोगों ने सर- माथे पर ले लिया और बड़े गर्व से आज नारा लगाते हैं।

भारत में प्राचीन काल से वैदिक मत या धर्म चलन में था जिसके मूल तत्व –सत्य ,अहिंसा,अस्तेय,अपरिग्रह और ब्रहाम्चार्य हैं.धर्म धारण करना सिखाता है.अन्य बातें धर्म नहीं हैं,वे तो ढोंग पाखण्ड व् आदम्बर हैं जो जनता को उलटे उस्तरे से मूढ़टी हैं.देवदासी या जोगिनी कुप्रथा भी शोषण और उत्पीडन का नतीजा है जो केवल धनवानों द्वारा गरीबों का किया जाता है.केवल गरीब माँ-बाप ही अपनी कन्याओं को बेचते होंगे,दबाव और मजबूरी में ही।

भगवान् तो प्रकृति के पंचतत्वों के मेल का नाम है.भूमि का भ,गगन का ग,अनल (अग्नि)का,T,नीर (जल)का ,न मिल कर भगवान् बनता है.भगवान् की पूजा किसी मंदिर या मूर्ती द्वारा नहीं हो सकती उसके लिए हवन (यज्ञ)की वैज्ञानिक पद्धति ही अपनानी होगी.महाभारत काल के बाद धर्म का पतन होने लगा और परिणामस्वरूप कुप्रथाएँ पनपती गयीं जिनका आज भारी बोल बाला है.
अंजलि सिन्हा जी से पूर्व प्रमोद जोशी जी व अरुण त्रिपाठी जी भी धार्मिक सामाजिक समस्याओं को उठा चुके हैं.लेकिन जब तक धर्म के नाम पर हो रहे अधर्म को बंद नहीं किया जाता जब तक अमीर कि पूजा होगी ढोंग-पाखण्ड चलता रहेगा।

Typist -Yashwant

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s