भारत की भाग्य लक्ष्मी क्यों रूठी ?


इसी शीर्षक से २२ -२३ वर्ष पूर्व नवभारत टाईम्स ,नयी दिल्ली क़े दीपावली अंक में वित्त -वार्ता पृष्ठ  पर श्री ललितेश्वर श्रीवास्तव का एक लेख छपा था जिसमे उन्होंने भारत की आर्थिक समस्यायों का विश्लेषण किया था .परन्तु यहाँ इस आलेख द्वारा प्रतिष्ठित ब्लॉगर श्री ब्रिज मोहन श्रीवास्तव सा :द्वारा मेरी पोस्ट “पूजा क्या ,क्यों और कैसे ?”पर की गई टिप्पणी क़े अंतर्गत हवन क़े सम्बन्ध में व्यक्त आशंका को आधार बना कर भारत क़े उज्जवल भविष्य हेतु कुछ प्रकाश डालने का प्रयास किया जा रहा है .

सबसे पहली बात

उक्त ब्लागर सा: ने जिन आचार्यजी का उल्लेख किया है उनकी उपलब्धि भारत में पाखण्ड और ढोंग की पुनर्स्थापना करना ही है .१८५७ की क्रान्ति में सक्रिय भाग लेने क़े १७ -१८ वर्ष बाद महर्षि दयानंद सरस्वती ने १८७५ ई .में आर्य समाज की स्थापना कर पाखण्ड -खंड्नी पताका फहरा दी थी .लोग जागरूक होने लगे थे और दस वर्ष बाद स्थापित इंडियन नेशनल कांग्रेस क़े इतिहास क़े लेखक डा .पट्टाभीसीतारमैय्या ने लिखा है कि आज़ादी क़े आन्दोलन में भाग लेने वाले कांग्रेसियों में ९० प्रतिशत आर्य समाजी थे .उक्त आचार्यजी ने आर्य समाज की रीढ़ तोड़ दी ,उन्होंने गायत्री मन्त्र को मूर्ती में बदल डाला ;उनके अनुयाइयों  ने वेदों की भी मूर्तियाँ बना डालीं .उन आचार्यजी और उनकी श्रीमतीजी की समाधि पर क़े चढ़ावे को लेकर उनके पुत्र और दामाद में घमासान चल रहा है .उनका संगठन प्रारंभिक हवन समिधाएँ ४ रखता है -धर्म ,अर्थ ,काम ,मोक्ष  हेतु .जबकि परमात्मा ,आत्मा और प्रकृति क़े निमित्त तीन ही खडी समिधाएँ लगाई जाती हैं और तीन ही समिधाओं की प्रारम्भिक आहुतियाँ दी जाती हैं .जब आप नियमानुसार हवन कर ही नहीं रहे तब परिणाम क़े अनुकूल होने की अपेक्षा  क्यों ?

                         दूसरी बात यह है
योगीराज श्री कृष्ण ने गीता में १६ वें अध्याय क़े १७ वें श्लोक में कहा है –
“आत्मसम्भावितः स्तब्धा धन मान मदान्वितः .
यजन्ते नाम यज्ञेस्ते दम्भेनाविधिपूर्वकम.”
अर्थात अपनी स्तुति आप करने वाले ,अकड्बाज़ ,हठी, दुराग्रही ,धन तथा मान क़े मद में मस्त होकर ये पाखण्ड क़े लिए शास्त्र की विधि को छोड़ कर अपने नाम क़े लिए यज्ञ (हवन )किया करते हैं .
स्वभाविक है कि जो हवन अवैज्ञानिक होंगे उनका कोई प्रभाव नहीं हो सकता .अतः आवश्यकता है सही वैज्ञानिक विधि से हवन करने की न कि व्यर्थ भटक कर हवन को कोसने की या मखौल उड़ाने की .
तीसरी बात फिर विदेशियों से

“परोपकारी” पत्रिका क़े अनुसार भोपाल क़े उपनगर (१५ कि .मी .दूर )बेरागढ़ क़े समीप माधव आश्रम में अमेरिकी मनोवैज्ञानिक मिसेज पेट्रिसिया हेमिल्टन ने बताया कि “होम -चिकित्सा ” अमेरिका ,चिली ,और पोलैंड में प्रासंगिक हो रही है .राजधानी वाशिंगटन में “अग्निहोत्र -विश्वविद्यालय “की स्थापना हो चुकी है .
बाल्टीमोर में ४ सित .१९७८ से अखंड अग्निहोत्र चल रहा है .जर्मनी की एक कंपनी ने अग्निहोत्र की भस्म से सिर -दर्द ,जुकाम ,दस्त ,पेट की बीमारियाँ ,पुराने ज़ख्म व आँखों की बीमारियाँ दूर करने की दवाईंया बनाना प्रारम्भ कर दिया है .

चौथी बात यह 

इस ब्लाग में पिछली कई पोस्ट्स क़े माध्यम से वैज्ञानिक हवन पद्धति पर विस्तार से लिख चुका हूँ अतः यहाँ अब और दोहराव नहीं किया जा रहा है .मुख्य प्रश्न यह है कि हमारा देश जब पहले समृद्ध था -सोने की चिड़िया कहलाता था तो फिर क्या हुआ कि आज हम I .M .F  और World Bank क़े कर्जदार हो गए हैं .विकास -दर की ऊंची -ऊंची बातें करने क़े बावजूद अभी यह दावा नहीं किया जा सकता कि हमने अपने पुराने गौरव को पुनः हासिल कर लिया है.

        पांचवीं बात वास्तु की

हमारा भारतवर्ष वास्तु शास्त्र क़े नियमों क़े विपरीत प्राकृतिक संरचना वाला देश है .वास्तु क़े अनुसार पश्चिम और दक्षिण ऊंचा एवं भारी होना चाहिए तथा पूर्व व उत्तर हल्का व नीचा होना चाहिए .हमारे देश क़े उत्तर से पूर्व तक हिमालय पर्वत है तथा दक्षिण एवं पश्चिम में गहरा समुद्र है .लेकिन प्राकृतिक प्रतिकूल परिस्थितियों क़े बावजूद आदि -काल से हमारे यहाँ वैदिक (वैज्ञानिक )पद्धति से हवन होते थे .न तो लोग हवन का मखौल उड़ाते थे न ही ढोंग -पाखण्ड चलता था;जैसा कि आज हवन क़े साथ हो रहा है और यह सब वे कर रहे हैं जो कि स्वयंभू ठेकेदार हैं भारतीय -संस्कृति क़े और जो दूसरों को भारतीय -संस्कृति का पाठ पढ़ा रहे हैं .
प्रत्येक शुभ कार्य से पहले सर्वप्रथम वास्तु -हवन होता था (१५ संस्कारों में ) सिर्फ अंतिम संस्कार को छोड़ कर ;उसके बाद फिर सामान्य -होम होता था .संस्कार विधि में महर्षि  स्वामी दयानंद सरस्वती ने भी वास्तु- हवन का विस्तृत वर्णन किया है .लेकिन महाभारत -काल क़े बाद जब वैदिक -संस्कृति का पतन हुआ तब हवन पद्धति को विस्मृत किया जाने लगा उसी का यह नतीजा रहा कि हम हज़ार साल से ज्यादा गुलाम रहे और आज ६३ वर्ष की आज़ादी क़े बाद भी हमारे बुधीजीवी तक गुलामी क़े प्रतीकों से चिपके रहने में खुद को गौरान्वित महसूस करते हैं .यही कारण है कि भारत की भाग्य लक्ष्मी रूठी है और तब तक रूठी ही रहेगी जब तक कि हम भारतवासी पुनः  अपने वैदिक -विज्ञान को अंगीकार नहीं कर लेते .
 
लेकिन एक और दुखद पहलू है कि महर्षि द्वारा स्थापित संगठन “आर्य -समाज ” में आज रियुमर स्पिच्युटेड सोसाईटी की घुसपैठ हो गई है और वह इस संगठन को अन्दर से खोखला कर रही है ताकि ढोंग और पाखण्ड का निष्कंटक राज कायम रह सके.आज दीपावली का पावन पर्व है और महर्षि का निर्वाण -दिवस भी.आइये एक बार फिर इस महान आत्मा द्वारा किये कार्यों को याद कर लें और उनकी सीख को मान कर भारत की रूठी भाग्य -लक्ष्मी को साधने का प्रयास करें .

कविवर “शंकर”जी ने मूल -शंकर अर्थात स्वामी दयानंद जी क़े बारे में जो रचना की उसे सुनने का कष्ट करें :-

स्वामी जी कैसा भारत चाहते थे ,भजनोपदेशक “विजय सिंह ” जी की रचना से जानिये :-

हमारे उपरोक्त विचारों की पुष्टि -“हिंदुस्तान” लखनऊ क़े आज सम्पादकीय में व्यक्त विचारों से भी होती है.आप स्वयं देखें-
Advertisements

8 comments on “भारत की भाग्य लक्ष्मी क्यों रूठी ?

  1. आपको और आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामाएं …

  2. अच्‍छा है आपका संदेश और पोस्‍ट। शुभ दीपावली।

  3. आपको व आपके परिवार को भी दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें।

  4. आर्य समाज पर ज्ञानवर्धक लेख ।आपको और आपके परिवार को दीवाली की हार्दिक शुभकामनायें माथुर साहब ।

  5. दीपावली का ये पावन त्‍यौहार,जीवन में लाए खुशियां अपार।लक्ष्‍मी जी विराजें आपके द्वार,शुभकामनाएं हमारी करें स्‍वीकार।।

  6. ज्ञानवर्धक आलेख…. दिवाली की मंगलकामनाएं

  7. सरजी/ मैने तो उस किताब का जिक्र किया था जिसमें उन्हौने औषधियों व्दारा हवन करने से तथा किस किस औषधि से किस किस रोग मेे लाभ होता है का वर्णन किया है और उन औषधियों का ही चिकित्सक चूर्ण अवलेह, आसव आदि के रुप में प्रयोग करते है। सरजी मै तो स्वयं ढोग और पाखण्ड के खिलाफ ही लिखता रहा हूं

  8. Vijai Mathur says:

    ब्रिज मोहन जी,ये जान कर बहुत खुशी हुई कि आप स्वयं ढोंग पाखंड के खिलाफ हैं,हम आपका स्वागत करते हैं.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s