वेद में नारी


महिला दिवस ८ मार्च के उपलक्ष्य में यह संकलन प्रस्तुत है:-
२७ .१२ १९९७ के राष्ट्रीय सहारा ,लखनऊ में  प्रकाशित  सुश्री अंशु नैथानी के विचार सर्वप्रथम देखें इस स्कैन कापी में-

भ्रामक भारतीयता के मसीहा नरेंद्र मोदी के गुजरात में देखें महिलाओं की यह दुर्दशा-
हिंदुस्तान लखनऊ-२७/फरवरी/2011

०६ .०३ २०११ के हिंदुस्तान रीमिक्स में प्रकाशित का.शबाना आजमी के यह विचार –

-(सार्वदेशिक साप्ताहिक,११ अक्टूबर १९९८ से साभार  ) यह लेख  प्रस्तुत है-
“भूमिर्माता द्यौ :न पिता ” (अथर्व.६ -१२०- २)
समाज में पुरुष और स्त्री का वही कार्य है,जो भू मंडल में प्रथ्वी और सूर्य का.,सूर्य प्रथिवी के बिना कोई सृजन नहीं कर सकता.
वेद में स्त्री के लिये उषा शब्द का प्रयोग हुआ है-“उषा वै सूर्यस्य पुरोगवी “.उषा सूर्य के आगे चलने वाली है.पुरुष सूर्य है और स्त्री पुरुष की पुरोगवी उषा है.तभी तो विवाह संस्कार में यज्ञ  वेदी की परिक्रमा करते हुए वधू आगे-आगे चलती है और वर पीछे-पीछे .
“स्त्री हि ब्रह्मा बभूविथ “  (ऋग.८ -३३ -१६ )

स्त्री-गृह,समाज,राष्ट्र एवं विश्व की ब्रह्मा है.मानव की जन्मदात्री,निर्मान्कत्री,संरक्षिका,शिक्षिका तथा संचालिका है.”यथा ब्रह्मा तथा रचना”.यदि स्त्री का अपना जीवन श्रद्धा,लज्जा,संयम,धैर्य,त्याग,स्नेह,सुशीलता,पवित्रता आदि श्रेष्ठ गुणों से युक्त होगा तो उसकी संतान भी शुद्ध,संयमी,धर्मात्मा,आस्तिकेवं कर्तव्य परायण होगी,और इसके विपरीत यदि नारी अक्षम,अबोध,अज्ञानी,असंयमी है,तो उसकी रचना भी त्रुटिपूर्ण होगी.अतः जिस राष्ट्र की नारी आदर्श ब्रह्मा औए शिक्षिका होगी,वही राष्ट्र आदर्श राष्ट्र बनेगा.

आर्य सभ्यता में नारी का सतीत्व सर्वोपरि है,तथा सतीत्व रक्षा का अचूक और श्रष्ट उपाय है,नारी का स्वंय सबला और सशस्त्र होना.महिला सम्मलेन करके,अधिकार मांगने,पुरुषों के आगे गिडगिडाने से कुछ भी मिलने वाला नहीं है.इसके लिए वेद माता का दिव्य-सन्देश नारी समाज ध्यान से सुने,समझे और फिर आचरण/व्यवहार में लाये तभी उसकी समस्याओं का समाधान हो जायेगा.

आलाक्ता ……वृह्न्नमः.. (ऋग .६ -७५ -१५)

भावार्थ-नारियां सुन्दर सुशील हों,पर साथ ही वीरांगना,सबला और सशस्त्रा भी हों.सतीत्व पर वार होने पर भयंकर,विकराला,विष से बुझी कटारियां हों तथा राष्ट्र पर संकट आने पर शास्त्रों और शरों की वर्षा करने वाली दुर्गा-लक्ष्मीबाई भी हों.समाज में ऐसी नारियों का सर्वाधिक सम्मान होना चाहिए.

राजपूत महिला किरण बाई ने ‘मीना बाजार’से अपह्रत हो जाने पर साक्षात दुर्गा बन कर बादशाह अकबर की छाती पर चढ़ कर कटार तान दी थी और उसके प्राणों की भीख मांगने पर तथा भविष्य में मीना बाजार न लगाने का वचन लेकर उसे जीवन दान देकर -इतिहास में अपना नाम अमर कर लिया.इसी प्रकार झांसी की महारानी लक्ष्मीबाई ने राष्ट्र रक्षा के लिए साक्षात दुर्गा बन कर अंग्रेजों के छक्के छुड़ा दिए थे.

वैदिक संस्कृति में नारी का स्थान पुरुष से एक हजार गुना ऊंचा है तथा उसका कार्य क्षेत्र गृह है.अपने घर की सुव्यवस्था करना दिव्यगुणी संततियों को जन्म देके उनका सुसंस्कारों से युक्त करके निर्माण करना प्रमुख दायित्व है.गृहस्थ रूपी गाडी के दो पहिये हैं-स्त्री व पुरुष .यदि दोनों ही अपनी -अपनी लीक (मर्यादा)में चलेंगे तभी घर स्वर्ग-धाम बनेगा.दोनों के ही सर्विस या धनोपार्जन में लग जाने से अनेक समस्यायें उत्पन्न होंगी .संतानों को आयाओं पर छोड़ कर सुयोग्य नहीं बनाया जा सकता.

वैदिक संस्कृति में नारी शक्ति की अधिष्ठात्री –‘दुर्गा,’धन की ‘लक्ष्मी’ तथा ज्ञान की ‘सरस्वती’के रूप में मानी , गयी है.कन्याएं साक्षात ‘दुर्गा’हैं,वही विवाह के पश्चात ‘गृह लक्ष्मी एवं साम्राज्ञी’बन जाती हैं तथा प्रौढ़ावस्था में ज्ञान व अनुभवों से संपन्न होकर ‘सरस्वती’बन जाती हैं.हमने अज्ञानवश इनकी कल्पित -फर्जी मूर्तियाँ बनाकर पूजना आरम्भ करके अपने असली स्वरूप को भुला दिया.

विवाह से पूर्व कन्या दो हाथ वाली है,विवाह हो जाने पर चार भुजाधारी और बेटा होने पर छः भुजाधारी तथा पुत्र-वधु आ जाने पर अष्ट भुजाधारी तथा वीर पुत्रों-पुत्रों की मान व दादी मान बन कर सिंह-वाहिनी बन जाती है.

जिस अष्ट-भुजाधारी व सिंह वाहिनी ‘दुर्गामाता’की कल्पित मूर्ती की हम पूजा करते हैं-वह किसी चित्रकार ने ‘भारत-माता’के रूप में अपनी कल्पना के आधार पर एक चित्र बनाया है.राष्ट्र की सामजिक व्यवस्था में उसके चारों अंगों -ब्राह्मन,क्षत्रिय ,वैश्य एवं शूद्र सभी का सहयोग रहता है.राष्ट्र पर शत्रु का आक्रमण होने पर चारों वर्णों के दो-दो हाथ मिला कर भारत माता ‘अष्ट भुजाधारी’चारों के सिंह सदृश्य वीर पुत्रों के सहयोग से ‘सिंह वाहिनी’बन जाती है.’वाहिनी’शब्द सेना के लिए भी प्रयोग होता है.

घर एक विश्वविद्यालय
संसार के महान  पुरुषों का प्रारंभिक शिक्षण अपने घर में ही हुआ है.बच्चे की सर्व प्रथम आचार्या उसकी माता है.है .हमारा अपना घर ही संसार का लघु संस्करण है.जैसे परिवार के स्त्री-पुरुष होंगे ,वैसा ही समाज बनेगा,जैसा समाज बनेगा,वैसा ही राष्ट्र होगा और जैसे राष्ट्र होंगे,वैसा ही विश्व होगा.

स्वामी विवेकानंद से किसी अमेरिकन महिला ने पूछा-स्वामी जी आपने कौन से विश्वविद्यालय में शिक्षा प्राप्त की है,मैं भी अपने एक बेटे को उसी में पढाना चाहती हूँ.स्वामी जी ने उत्तर दिया-“वह विश्वविद्यालय तो अब टूट चूका है”.कौन सा था वह विश्वविद्यालय ?यह पूछने पर स्वामी जी ने कहा-वह विश्वविद्यालय था-मेरी जन्मदात्री माँ-जो अब इस संसार में नहीं है.’माता निर्माता भवति’.

गृहस्थ विज्ञानं

गृहस्थ विज्ञानं संसार का सबसे बड़ा विज्ञानं है,जिसकी सर्वथा उपेच्छा  की जा रही है.उस विज्ञानं को भली भांति’संस्कार चन्द्रिका’पुस्तक में समझ कर आचरण में लाने पर माताएं बच्चे को संत,महात्मा,ऋषी,वीर,राजा अथवा चोर व डाकू जैसा चाहे बना सकती हैं.विधाता ने यह सामर्थ्य नारी को ही दिया है.वीर अभिमन्यु ने माँ के पेट में ही चक्रव्यूह भेदन क्रिया सीख ली थी.नेपोलियन की माता गर्भावस्था में नित्य सैनिक परेड देखती थी.अष्टावक्र ने गर्भ काल में ही वेदान्त की शिक्षा प्राप्त कर ली थी.महारानी मदालसा ने अपने तीन बेटों को ऋषी और चौथे को श्रेष्ठ राजा बना दिया था.

वैदिक विवाह

विवाह शब्द का अर्थ है-विवहनार्थ -विविध कर्तव्यों एवं उत्तरदायित्वों के पालन हेतु दो आत्माओं और दो जीवनों का आजीवन अभिन्न मिलन.जहाँ दोनों मिल कर परिवार,समाज,राष्ट्र एवं विश्व की उन्नति में अपना योगदान करेंगे तथा लोक व परलोक की सुसाधना करेंगे.

वैदिक विवाह में तलाक का कोई स्थान नहीं है.आजीवन साथ रहने का विधान है.जैसे दो स्थानों का जल मिला देने पर संसार का बड़े से बड़ा वैज्ञानिक भी उन्हें अलग नहीं कर सकता .यह है वैदिक विवाह की श्रेष्ठता एवं विशेषता.विवाह से पूर्व ही केवल चरम नेत्रों से नहीं बल्कि ज्ञान नेत्रों से भी वर एवं कन्या के वंश ,गुण ,शील,स्वभाव,रूप-रंग,चरित्र आदि की परख कर लेनी आवश्यक है.केवल बाह्य रूप,रंग,कार-कोठी,पैसा,सर्विस आदि को प्राथमिकता नहीं देनी चाहिए.विवाह संस्कार वैदिक रीति से -वर एवं वधु स्वंय वेद मन्त्र बोल कर उनके अर्थ समझ कर प्रसन्नतापूर्वक आजीवन एक साथ रहने की प्रतिज्ञा करें.

आजकल विदेशियों की नक़ल करके जो प्रेम विवाह हो रहे हैं,उनमें से अधिकाँश का १ -२ वर्ष के भीतर तलाक हो जाता है.और अब तो विदेशों में यह मान कर कि जब विवाह का अंत तलाक में होना है,तो क्यों न विवाह को ही बीच में निकाल दिया जाए.परिणाम स्वरूप वहां हजारों स्त्री-पुरुष बिना विवाह्किये ही साथ -साथ रह रहे हैं-जिसके कारण वहां की सरकारों के सामने उनके बच्चों के पालन-पोषण ,शिक्षा व उत्तराधिकार जैसी समस्याएं उत्पन्न हो गयी हैं.उनका गृहस्थ जीवन पशुओं जैसा बन गया है.

भारत में भी यह बीमारी तेजी से बढ़ रही है.दूरदर्शन व सिनेमा के माध्यम से विवाहोंतर संबंधों एवं बिन विवाह किये बच्चे को जन्म देने का हवाला अब शान के साथ दिया जाने लगा है.जो शीघ्र ही एक भयंकर त्रासदी की और देश को ले जायेगा
वैदिक संस्कृति के अभाव में नारी के अपने दिव्य स्वरूप,अपनी छमताओं,परिवार,समाज एवं राष्ट्र निर्माण में अपनी उज्जवल भूमिका  को  भुला  दिया  है .पुरुष  जो  उसी  की कृति है  –  नारी को एक  अभिशाप  के रूप  में चित्रित कर रहा है.आज का पुरुष यदि शैतान हैतो इसका मूल कारण यही है कि  नारी ने उसे संत बनाने की चिंता नहीं की.आज नारी ही नारी की शत्रु बन रही है.दहेज़ के कारण होने वाली अधिकाँश हत्याओं तथा कन्याओं की भ्रूण हत्याओं एवं गर्भपात में मूल रूप से सास व ननदें ही दोषी पाई जाती हैं.

हे मातृ शक्ति !वैदिक संस्कृति संसार की सर्वश्रेष्ठ संस्कृति है.जैसे आत्मा के बिना शरीर निष्प्राण हो जाता है,उसी प्रकार अपनी संस्कृति के बिना आपका जीवन,परिवार,समाज व राष्ट्र निष्प्राण होकर अनेकों समस्याओं व संकटों से घिर गया है,तथा विनाश के कगार पर खड़ा है.
हे मानव की जन्मदात्री व निर्माण कर्त्ती माता !वैदिक संस्कृति को अपना कर ‘सृष्टि की ब्रह्मा’ बन कर वेदमाता के आदेश -‘जनया दैव्यं जनम ‘का पालन करके दिव्य-श्रेष्ठ गुणों से युक्त पुत्र व पुत्रियों को ही जन्म दो,तभी आपकी ,समाज,राष्ट्र एवं विश्व की समस्त समस्याओं का समाधान होकर नवयुग-निर्माण होकर संसार स्वर्ग धाम बन जायेगा.आज संसार को ‘मिस इण्डिया’या ‘मिस यूनिवर्स’की नहीं बल्कि हजारों लाखों मदाल्साओं एवं दुर्गों की आवश्यकता है.

मथुरा के आर्य भजनोपदेशक श्री विजय सिंह जी के अनुसार-

हमें उन वीर माओं की कहानी याद आती है
मरी जो धर्म की खातिर कहानी याद आती है
बरस चौदह रही वन में पति के संग सीता जी
पतिव्रत धर्म मर्यादा निभानी याद आती है
कहा सरदार ने रानी निशानी चाहिए मुझ को
दिया सर काट रानी ने निशानी याद आती है
हज़ारों जल गयीं चित्तोड़ में व्रत धर्म का लेकर
चिता पद्मावती तेरी सजानी याद आती है
कमर बाँध कर बेटा लड़ी अंग्रेजों से डट कर
हमें वह शेरनी झांसी की रानी याद आती है. 
                                —*—
विश्व महिला दिवस पर समस्त नारी समाज को मंगलकामनाएं.
Advertisements

10 comments on “वेद में नारी

  1. महिला दिवस पर सार्थक विवेचन ….. एक अर्थपूर्ण पोस्ट के लिए आभार

  2. krati bajpai says:

    namaste sir, mahila divas par isase behetar to shayad kuch bhi nahi likha ja sakta tha. apka ye sankalan vastav main nayab hai. gyanvardhan ke liye bahut bahut dhanyavaad. pranaam.

  3. माथुर साहब!आपके इस ब्लॉग के माध्यम से जितना समष्टिरूप में नारी चित्रण देखा, उसके बाद मुझे मेरा यह मानना और दृढ हुआ है कि नारी के लिये सिर्फ आठ मार्च का ही एक दिन क्यों… बाकी के 364 दिन उसपर अत्याचार करने को.. याद आ रही हैं निराला जी की पंक्तियाँ तोड़ती पत्थर, देखा उसे मैंने इलाहाबाद के पथ पर!!

  4. ZEAL says:

    महिलाओं की उन्नति देखकर अक्सर लोग चिढ जाते हैं , ऐसा क्यूँ होता है पता नहीं ।

  5. Vijai Mathur says:

    @सलिल जी का कहना सही है,इसी लिए तो मैं इस ब्लाग पर लगातार अपनी वही पुरानी वैदिक संस्कृति बहाल करने की अपीलें करता रहता हूँ.@दिव्या जी का प्रश्न भी वाजिब है.ऐसा उन लोगों के स्वंय के अहंकार तथा अपनी मूल अर्वाचीन भारतीय संस्कृति को न मानने एवं भटकाव के कारण होता है.

  6. माथुर जी ने महिला दिवस पर जो विचार संप्रेषित किए उनका मैं तहेदिल से समर्थन करता हूँ .हालाँकि बाज़ मरतवा यह भी देखा गया है की वैयक्तिक दांपत्य जीवन में महिला खलनायिकाएँ ओर उनका जीवन साथी पुरुष वेचारा सविट हुआ है .अतएव ज़रूरी यह है की ज़ेंडर भेद को अस्वीकार करने की रौ में हम विश्व महिला दिवस तो आवजर्व करें किंतु हमारा मकसद शोषण विहीन ,वर्ग विहीन ,समतामूलक समाज व्यवस्था की और गतिशील होना चाहिए.

  7. महिला दिवस पर शानदार प्रस्तुति ।बहुत अच्छे उदाहरण दिए हैं ।पुरुषों को महिलाओं के प्रति अपना रवैया बदलना होगा । तभी नारी को समाज में उचित स्थान मिल सकता है ।

  8. बहुत सारगर्भित वर्णन किया आपने नारी का, माथुर साहब !

  9. ज्ञानवर्धक एवं रोचक लेख के लिए हार्दिक धन्यवाद!

  10. सत्य का उजागर करती विचारणीय पोस्ट !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s