सुदेशी और सुराज्य (२ )


गांधी जी ने देश की आजादी के दौरान ‘स्वदेशी और स्वराज्य’पर जोर दिया था उनका प्रयास सफल भी रहा था.आज हम राजनीतिक रूप से स्वतंत्र तो हैं ,परन्तु आर्थिक रूप से पहले से कहीं ज्यादा गुलाम हैं.इसी ब्लॉग में मैंने आज ‘सुदेशी और सुराज्य’ आंदोलन चलाये जाने की आवश्यकता समझानी चाही थी.इसकी क्यों जरूरत है?आइये देखें प्रस्तुत लेख को,जो निष्काम परिवर्तन पत्रिका (अप्रैल २०००)में प्रकाशित हुआ था.-

कोई भी देश भक्त नागरिक बड़ी आसानी से मान लेगा कि इस लेख में वर्णित सभी बातें बिलकुल सही हैं.फिर यह हम सभी का दायित्व है कि अपने -अपने स्तर से  तो विदेशी कं. के बने मालों का प्रयोग बंद कर दें जैसा कि श्री मनोज कुमार जी ने अपनी टिप्पणी में सुझाव भी दिया था.सम्भव हो तो राजनीतिक मतभेदों को भुला कर   एक जोरदार अभियान ‘सुदेशी और सुराज्य’के मुद्दे पर चलाया जाना चाहिए.देखिये आज के हिंदुस्तान में छपे विक्कीलीक्स के इस खुलासे को कैसे साम्राज्यवादी हमारे देश को दबाव में लेना चाहते हैं?साम्राज्यवाद पर हमले का विरोध कर संकीर्ण मनोवृति के लोग क्या चाहते हैं?

‘हिंदुस्तान’-लखनऊ-29/03/2011
Advertisements

5 comments on “सुदेशी और सुराज्य (२ )

  1. माथुर साहब, यह एक न्यायोचित बात है कि जहां तक हो सके हम स्वदेशी माल का उपयोग करे ! लेकिन आतंरिक स्थित पर गौर फरमाए तो परिस्थितियाँ भिन्न है ! आज उत्तर प्रदेश को ही केंद्र मानकर चले तो औद्योगिक उत्पादन सरकार के स्वार्थों और उदासीनता की वजह से बिलकुल ठप्प है बिद्युत और श्रमिक दिक्कते, इंस्पेक्टरी राज, राजनैतिक हस्तक्षेप ! अब जब उप्ताप्दन ही नहीं होगा, स्वदेशी वस्तु की लागत विदेशी की अपेक्षा बहुत अधिक होगी, गुणवत्ता कम होगी, तो स्वदेशी वस्तु इस्तेमाल करेगे कहाँ से ?

  2. बहुत अच्छा मुद्दा उठाया आपने ——- विचारणीय है।

  3. हम स्वदेशी चीज़ों को बढ़ावा दे तो घरेलू उत्पादकों को प्रोत्साहन भी मिलेगा …… बहुत सार्थक और विचारणीय विषय….

  4. आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा. हिंदी लेखन को बढ़ावा देने के लिए आपका आभार. आपका ब्लॉग दिनोदिन उन्नति की ओर अग्रसर हो, आपकी लेखन विधा प्रशंसनीय है. आप हमारे ब्लॉग पर भी अवश्य पधारें, यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "अनुसरण कर्ता" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . आपकी प्रतीक्षा में ….भारतीय ब्लॉग लेखक मंचडंके की चोट पर

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s