संसार का मूलाधार है—त्रैतवाद


इस संसार ,इस सृष्टि का नियंता और संचालक परम पिता परमात्मा है। परमात्मा के संबंध मे हमारे देश मे अनेकों मत और धारणाये प्रचलित हैं। इनमे से प्रमुख इस प्रकार हैं—

अद्वैतवादी- सिर्फ परमात्मा को मानते हैं और प्रकृति तथा आत्मा को उसका अंश मानते हैं जो कि गलत तथ्य है क्योंकि यदि आत्मा,परमात्मा का ही अंश होता तो बुरे कर्म नहीं करता और प्रकृति भी चेतन होती जड़ नही।

द्वैतवादी -परमात्मा (चेतन)और प्रकृति (जड़)तो मानते हैं परंतु ये भी आत्मा को परमात्मा का ही अंश मानने की भूल करते हैं;इसलिए ये भी मनुष्य को भटका देते हैं।

त्रैतवादी-परमात्मा,आत्मा और प्रकृति तीनों का स्वतंत्र अस्तित्व मानना यही ‘त्रैतवाद ‘है और ‘वेदों’ मे इसी का वर्णन है। अन्य किसी तथ्य का नहीं।

वेद आदि ग्रंथ हैं—प्रारम्भ मे ये श्रुति व स्मृति पर आधारित थे अब ग्रंथाकार उपलब्ध हैं। अब से लगभग दो अरब वर्ष पूर्व जब हमारी यह पृथ्वी ‘सूर्य’ से अलग हुई तो यह भी आग का एक गोला ही थी। धीरे-धीरे करोड़ों वर्षों मे यह पृथ्वी ठंडी हुई और गैसों के मिलने के प्रभाव से यहाँ वर्षा हुई तब जाकर ‘जल'(H-2 O)की उत्पत्ति हुई। पृथ्वी के उस भाग मे जो आज ‘अफ्रीका’ कहलाता है ,उस भाग मे भी जो ‘मध्य एशिया’ और ‘यूरोप’के समीप है तथा तीसरे उस स्थान पर जो ‘त्रिवृष्टि'(तिब्बत)कहलाता है परमात्मा ने ‘युवा-पुरुष’ व ‘युवा-स्त्री’ रूपी मनुष्यों की उत्पत्ति की और आज की यह सम्पूर्ण मानवता उन्ही तीनों पर उत्पन्न मनुष्यों की संतति हैं।

त्रिवृष्टि मे उत्पन्न मनुष्य अधिक विवेक्षील हुआ और कालांतर मे दक्षिण स्थित ‘आर्यावर्त’की ओर प्रस्थान कर गया। ‘आर्यावर्त’मे ही वेदों की रचना हुई। वेद सृष्टि=इस संसार के संचालन हेतु ‘विधान’ प्रस्तुत करते हैं। वेदों के अनुसार —(1 )परमात्मा,(2 )आत्मा और (3 )प्रकृति इन तीन तत्वों पर आधारित इस संसार मे प्रकृति ‘जड़’ है और स्वयं कुछ नहीं कर सकती जो तीन तत्वों के मेल से बनी है—(1 )सत्व,(2 )रज और (3 )तम। ये तीनों जब ‘सम’ अवस्था मे होते हैं तो कुछ नहीं होता है और वह ‘प्रलय’ के बाद की अवस्था होती है। आत्मा -सत्य है और अमर है यह अनादि और अनंत है। ‘परमात्मा’ =’सत्य’ और ‘चित्त’के अतिरिक्त ‘आनंदमय’ भी है—सर्व शक्तिमान है,सर्वज्ञ है और अपने गुण तथा स्वभाव के कारण आत्माओं के लिए प्रकृति से ‘सृष्टि’ करता है ,उसका पालन करता है तथा उसका संहार कर प्रलय की स्थिति ला देता है,पुनः फिर सृष्टि करता है और आत्माओं को पुनः प्रकृति के ‘संयोजन’से ‘संसार’ मे भेज देता है=G(जेनरेट)+O(आपरेट)+D(डेसट्राय)। ये सब कार्य वह खुद ही करता (खुदा ) है।

‘सृष्टि’ के नित्य ही ‘संसर्ग’ करने अर्थात ‘गतिमान’ रहने के कारण ही इसे ‘संसार’ कहा गया है। ‘आत्मा’ ,’परमात्मा’ का अंश नहीं है उसका स्वतंत्र अस्तित्व है और वह भी ‘प्रकृति’ तथा ‘परमात्मा’ की भांति ही कभी भी ‘नष्ट नहीं होता है’। विभिन्न कालों मे विभिन्न रूपों मे (योनियों मे )’आत्मा’ आता-जाता रहता है और ऐसा उसके ‘कर्मफल’ के परिणामस्वरूप होता है। ‘मनुष्य’=जो मनन कर सकता है उसे मनुष्य कहते हैं। ‘परमात्मा’ ने ‘मानव जीवात्मा’ को इस संसार मे ‘कार्य-क्षेत्र’ मे स्वतन्त्रता दी है अर्थात वह जैसे चाहे कार्य करे परंतु परिणाम परमात्मा उसके कार्यों के अनुसार ही देता है अन्य योनियों मे आत्मा ‘कर्मों के फल भोगने’ हेतु ही जाता है। यह उसी प्रकार है जैसे ‘परीक्षार्थी’ परीक्षा भवन मे कुछ भी लिखने को स्वतंत्र है परंतु परिणाम उसके लिखे अनुसार ही मिलता है जिस पर परीक्षार्थी का नियंत्रण नहीं होता। इस भौतिक शरीर के साथ आत्मा को सूक्ष्म शरीर घेरे रहता है और भौतिक शरीर की मृत्यु के बाद भी वह ‘सूक्ष्म शरीर’ आत्मा के साथ ही चला जाता है। मनुष्य ने अछे या बुरे जो भी ‘कर्म’ किए होते हैं वे सभी ‘गुप्त’ रूप से ‘सूक्ष्म शरीर’ के ‘चित्त’ मे अंकित रहते हैं और उन्ही के अनुरूप ‘परमात्मा’ आगामी फल प्रदान करता है—इसी को ‘चित्रगुप्त’ कहा जाता है।

मनुष्य को उसके कर्मों का जो फल उसी जीवन मे नहीं मिल पाता है वह संचित रहता है और यही आगामी जीवन पर ‘प्रारब्ध (भाग्य )’बन जाता है। परंतु ‘जीवन’ मे ‘मनुष्य’ ‘मनन’ द्वारा अच्छे कर्मों को सम्पन्न कर ‘संचित प्रारब्ध’ के बुरे कर्मों के फलों को ‘सहन’ करने की ‘शक्ति’ अर्जित कर लेता है। जो मनुष्य नहीं समझ पाता वही इस ‘संसार’ मे दुखी होता है और जो समझ लेता है वह ‘सुख-दुख’ को एक समान समझता है और विचलित नहीं होता है तथा ‘शुभ कर्मों’ मे ही लगा रहता है। प्रायः यह दीखता है कि ‘बुरे कर्म’ करने वाला ‘आनंद’ मे है और ‘अच्छे कर्म’ वाला ‘कष्ट’ मे है ऐसा ‘पूर्व कर्मफल ‘ के अनुसार ही है। परमात्मा अच्छी के अच्छे व बुरे के बुरे फल प्रदान करता है। इस जन्म के बुरे कर्म देख कर परमात्मा पूर्व जन्म के अच्छे फल नहीं रोकता;परंतु इस जन्म के बुरे कर्म उस मनुष्य के आगामी जीवन का ‘प्रारब्ध’ निर्धारित कर देते हैं। परंतु अज्ञानी मनुष्य समझता है कि परमात्मा बुरे का साथी है ,या तो वह भी बुरे कार्यों मे लीन होकर अपना आगामी प्रारब्ध बिगाड़ लेता है या व्यर्थ ही परमात्मा को कोसता रहता है। परंतु बुद्धिमान मनुष्य अब्दुर्रहीम खानखाना की इस उक्ति पर चलता है—

"रहिमन चुप हुवे बैठिए,देख दिनन के फेर।
जब नीके दिन आईहैं,बनात न लागि है-बेर। । "

जो बुद्धिहीन मनुष्य यह समझते हैं कि अच्छा या बुरा सब परमात्मा की मर्ज़ी से होता है ,वे अपनी गलती को छिपाने हेतु ही ऐसा कहते हैं। आत्मा के साथ परमात्मा का भी वास रहता है क्योंकि वह सर्वव्यापक है। परंतु आत्मा -परमात्मा का अंश नहीं है जैसा कु भ्रम लोग फैला देते हैं। जल का परमाणु अलग करेंगे तो उसमे जल के ,अग्नि का अलग करेंगे तो उसमे अग्नि के गुण मिलेंगे। जल की एक बूंद भी शीतल होगी तथा अग्नि की एक चिंगारी भी दग्ध करने मे सक्षम होगी। यदि आत्मा,परमात्मा का ही अंश होता तो वह भी सचिदानंद अर्थात सत +चित्त +आनंद होता। जबकि आत्मा सत और चित्त तो है पर आनंद युक्त नहीं है और इस आनंद की प्राप्ति के लिए ही उसे मानव शरीर से परमात्मा का ध्यान करना होता है। जो मनुष्य संसार के इस त्रैतवादी रहस्य को समझ कर कर्म करते हैं वे इस संसार मे भी आनंद उठाते हैं और आगामी जन्मों का भी प्रारब्ध ‘आनंदमय’ बना लेते हैं। आनंद परमात्मा के सान्निध्य मे है —सांसारिक सुखों मे नहीं। संसार का मूलाधार है त्रैतवाद अर्थात परमात्मा,प्रकृति और आत्मा का स्वतंत्र अस्तित्व स्वीकार करना तथा तदनुरूप कर्म-व्यवहार करना।

Advertisements

One comment on “संसार का मूलाधार है—त्रैतवाद

  1. Dilip Kale says:

    ठीक एवम सटीक उत्तर है त्रैत वाद के बारे में। धन्यवाद 🙂

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s