क्रांति स्वर समाज को ‘धर्म’ का ‘मर्म’ समझा ना ही होगा —विजय राजबली माथुर


14062014.jpg

http://dlvr.it/60WrY9
बाबा ने की विदेश महिला से छेड़छाड़, गिरफ्तार
www.liveaaryaavart.com

उत्तर प्रदेश के वाराणसी जनपद में एक फ्रांसीसी महिला के साथ एक बाबा ने छेड़छाड़ की। विदेश महिला ने इस संबंध में रिपोर्ट दर्ज कराई है। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

14 जून 2014 को समाज शास्त्र के प्रोफेसर साहब का यह लेख प्रकाशित हुआ और अगले ही दिन प्रधानमंत्री साहब के निर्वाचन क्षेत्र जिसे देश की सांस्कृतिक राजधानी पुकारा जाता है में यह घटना घटित हुई। समाज को संवेदनशील कैसे बनाया जाएगा जब ढोंगियों,पाखंडियों,आडंबरकारियों को ‘बाबा’,’साधू’,’सन्यासी’,’धार्मिक प्रचारक’,’बापू’ आदि-आदि उपाधियाँ दी जाती रहेंगी।

वस्तुतः पाँच हज़ार वर्ष पूर्व महाभारत काल के बाद ‘धर्म’ =’सत्य,अहिंसा (मनसा-वाचा-कर्मणा ),अस्तेय,अपरिग्रह और ब्रह्मचर्य’ का लोप हो गया और उसके स्थान पर ‘ढोंग-पाखंड-आडंबर-शोषण-उत्पीड़न’ को धर्म कहा जाने लगा। ‘वेदों’ का जो मूल मंत्र -‘कृणवंतों विश्वमार्यम …’ था अर्थात समस्त विश्व को ‘आर्य’=आर्ष=श्रेष्ठ बनाना था उसे ब्राह्मणों द्वारा शासकों की मिली-भगत से ठुकरा दिया गया। ‘अहं’,’स्वार्थ’,’उत्पीड़न’को महत्व दिया जाने लगा। ‘यज्ञ’=हवन में जीव हिंसा की जाने लगी। इन सब पाखंड और कुरीतियों के विरुद्ध गौतम बुद्ध ने लगभग ढाई हज़ार वर्ष पूर्व बुलंद आवाज़ उठाई और लोग उनसे प्रभावित होकर पुनः कल्याण -मार्ग पर चलने लगे तब शोषकों के समर्थक शासकों एवं ब्राह्मणों ने षड्यंत्र पूर्वक महात्मा बुद्ध को ‘दशावतार’ घोषित करके उनकी ही पूजा शुरू करा दी। ‘बौद्ध मठ’ और ‘विहार’ उजाड़ डाले गए बौद्ध साहित्य जला डाला गया। परिणामतः गुमराह हुई जनता पुनः ‘वेद’ और ‘धर्म’ से विलग ही रही और लुटेरों तथा ढोंगियों की ‘पौ बारह’ ही रही।

यह अधर्म को धर्म बताने -मानने का ही परिणाम था कि देश ग्यारह-बारह सौ वर्षों तक गुलाम रहा। गुलाम देश में शासकों की शह पर ब्राह्मणों ने ‘कुरान’ की तर्ज पर ‘पुराण’ को महत्व देकर जनता के दमन -उत्पीड़न व शोषण का मार्ग मजबूत किया था जो आज भी बदस्तूर जारी है। पुराणों के माध्यम से भारतीय महापुरुषों का चरित्र हनन बखूबी किया गया है। उदाहरणार्थ ‘भागवत पुराण’ में जिन राधा के साथ कृष्ण की रास-लीला का वर्णन है वह राधा ‘ब्रह्म पुराण’ के अनुसार भी योगीराज श्री कृष्ण की मामी ही थीं जो माँ-तुल्य हुईं परंतु पोंगापंथी ब्राह्मण राधा और कृष्ण को प्रेमी-प्रेमिका के रूप में प्रस्तुत करते हैं । आप एक तरफ भागवत पुराण को पूज्य मानेंगे और समाज में बलात्कार की समस्या पर चिंता भी व्यक्त करेंगे तो ‘मूर्ख’ किसको बना रहे हैं?चरित्र-भ्रष्ट,चरित्र हींन लोगों के प्रिय ग्रंथ भागवत के लेखक के संबंध में स्वामी दयानन्द ‘सरस्वती’ ने सत्यार्थ प्रकाश में लिखा है कि वह गर्भ में ही क्यों नहीं मर गया था जो समाज को इतना भ्रष्ट व निकृष्ट ग्रंथ देकर गुमराह कर गया। क्या छोटा और क्या मोटा व्यापारी,उद्योगपति व कारपोरेट जगत खटमल और जोंक की भांति दूसरों का खून चूसने वालों के भरोसे पर ‘भागवत सप्ताह’ आयोजित करके जनता को उल्टे उस्तरे से मूढ़ने का उपक्रम करता रहता है जबकि प्रगतिशील,वैज्ञानिक विचार धारा के ‘एथीस्टवादी’ इस अधर्म को ‘धर्म’ की संज्ञा देकर अप्रत्यक्ष रूप से उस पोंगापंथ को ही मजबूत करते रहते हैं।

एक और आंदोलन है ‘मूल निवासी’ जो आर्य को ‘ब्रिटिश साम्राज्यवादियों’ द्वारा कुप्रचारित षड्यंत्र के तहत यूरोप की एक आक्रांता जाति ही मानता है । जबकि आर्य विश्व के किसी भी भाग का कोई भी व्यक्ति अपने आचरण व संस्कारों के आधार पर बन सकता है। आर्य शब्द का अर्थ ही है ‘आर्ष’= ‘श्रेष्ठ’ । जो भी श्रेष्ठ है वह ही आर्य है। आज स्वामी दयानन्द सरस्वती का आर्यसमाज ब्रिटिश साम्राज्य के हित में गठित RSS द्वारा जकड़ लिया गया है इसलिए वहाँ भी आर्य को भुला कर ‘हिन्दू-हिन्दू’ का राग चलने लगा है। बौद्धों के विरुद्ध हिंसक कृत्य करने वालों को सर्व-प्रथम बौद्धों ने ‘हिन्दू’ संज्ञा दी थी फिर फारसी शासकों ने एक गंदी और भद्दी गाली के रूप में इस शब्द का प्रयोग यहाँ की गुलाम जनता के लिए किया था जिसे RSS ‘गर्व’ के रूप में मानता है। अफसोस की बात यह है कि प्रगतिशील,वैज्ञानिक लोग भी इस ‘सत्य’ को स्वीकार नहीं करते हैं और RSS के सिद्धांतों को ही मान्यता देते रहते हैं। ‘एथीस्ट वादी’ तो ‘धर्म’=’सत्य,अहिंसा (मनसा-वाचा-कर्मणा),अस्तेय,अपरिग्रह,अस्तेय और ब्रह्मचर्य’ का विरोध ही करते हैं तब समाज को संवेदनशील कौन बनाएगा?

यदि हम समाज की दुर्व्यवस्था से वास्तव में ही चिंतित हैं और उसे दूर करना चाहते हैं तो अधर्म को धर्म कहना बंद करके वास्तविक धर्म के मर्म को जनता को स्पष्ट समझाना होगा तभी सफल हो सकते हैं वर्ना तो जो चल रहा है और बिगड़ता ही जाएगा।
सत्य क्या है?:

‘धर्म’=’सत्य,अहिंसा (मनसा-वाचा-कर्मणा),अस्तेय,अपरिग्रह,अस्तेय और ब्रह्मचर्य’।

अध्यात्म=अध्ययन +आत्मा =अपनी ‘आत्मा’ का अध्ययन।

भगवान=भ (भूमि)+ग (गगन-आकाश)+व (वायु-हवा)+I(अनल-अग्नि)+न (नीर-जल)।

खुदा=चूंकि ये पांचों तत्व खुद ही बने हैं किसी ने बनाया नहीं है इसलिए ये ही ‘खुदा’ हैं।
गाड=G(जेनरेट)+O(आपरेट)+D(डेसट्राय) करना ही इन तत्वों का कार्य है इसलिए ये ही GOD भी हैं।
व्यापारियों,उद्योगपतियों,कारपोरेट कारोबारियों के हितों में गठित रिलीजन्स व संप्रदाय जनता को लूटने व उसका शोषण करने हेतु जो ढोंग-पाखंड-आडंबर आदि परोसते हैं वह सब ‘अधर्म’ है ‘धर्म’ नहीं। अतः अधर्म का विरोध और धर्म का समर्थन जब तक साम्यवादी व वामपंथी नहीं करेंगे तब तक जन-समर्थन हासिल नहीं कर सकेंगे बल्कि शोषकों को ही मजबूत करते रहेंगे जैसा कि 2014 के चुनाव परिणामों से सिद्ध भी हो चुका है।

~विजय राजबली माथुर ©

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s