क्रांति स्वर ‘एथीस्टवादी संप्रदाय ‘ उत् तरदायी है सांप्रदायिकता के प्रसार के लिए —वि जय राजबली माथुर


एथीस्टवादी संप्रदाय और विभिन्न पाखंडी संप्रदाय परस्पर अन्योनाश्रित हैं :

ajay%2Bsarvhara.JPG

svs.JPG
http://krantiswar.blogspot.in/2014/08/blog-post.html
raxabandhan.JPG
http://krantiswar.blogspot.in/2014/08/blog-post_9.html

तो यह है ‘मार्क्स वाद ‘ का असली रूप ‘एथीस्टवादियों ‘ की नज़र में जो ‘बड़ी मछली ,छोटी मछली ‘के खेल में लगे हुये हैं क्या ऐसे ही साम्यवाद या मार्क्स वाद लागू हो पाएगा?

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s